Best Gastrologist In Bikaner – Dr. Nikhil Gandhi

GERD के लक्षण: प्रारंभिक पहचान और समय पर उपचार: डॉक्टर से कब परामर्श करें​

Person wearing blue gloves holds a notepad that reads "GERD - Gastroesophageal Reflux Disease" at a desk with medical items, highlighting GERD के लक्षण और उपचार.

गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (GERD) एक पुरानी पाचन समस्या है जो लाखों लोगों को प्रभावित करती है। यह तब होता है जब पेट का एसिड अक्सर भोजन नली में वापस आ जाता है, जिससे उसकी परत में जलन होती है। GERD के शुरुआती संकेतों को पहचानना समय पर उपचार और गंभीर जटिलताओं को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है। इस ब्लॉग में, हम GERD के सामान्य और चेतावनी संकेतों, कब चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए और इसे प्रभावी ढंग से कैसे प्रबंधित किया जा सकता है, के बारे में जानेंगे। अगर आपको ये लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो बीकानेर के कोठारी अस्पताल में डॉ. निखिल गांधी से परामर्श लें।

GERD क्या है?

 GERD एक स्थिति है जिसमें पेट का एसिड अक्सर भोजन नली में वापस आ जाता है। यह एसिड रिफ्लक्स सूजन, जलन और विभिन्न असुविधाजनक लक्षणों का कारण बन सकता है। GERD के मुख्य कारणों में कमजोर निचला इसोफेजियल स्फिंक्टर (LES), मोटापा, गर्भावस्था, धूम्रपान और कुछ दवाएं शामिल हैं। आहार, जीवनशैली और जेनेटिक्स जैसे कारक भी GERD के विकास में योगदान कर सकते हैं।

An illustration comparing a healthy digestive system with one affected by GERD के लक्षण और उपचार. On the left, a healthy stomach has a tight lower oesophageal sphincter, while on the right, GERD shows a loose sphincter and gastric acid damaging the oesophagus.

GERD के लक्षण और उपचार

GERD के लक्षण और उपचार को हम निम्न प्रकार से जान सकते हैं।

GERD के सामान्य लक्षण

1.हार्टबर्न:GERD का सबसे आम लक्षण छाती में जलन है, जो अक्सर खाने के बाद या रात में होता है।

2.एसिड रिगर्जिटेशन: इसमें मुंह में खट्टा स्वाद और गले में जलन शामिल है, जो एसिड के भोजन नली में वापस आने के कारण होता है।

3.छाती में दर्द: GERD छाती में दर्द का कारण बन सकता है जिसे कभी-कभी हृदय समस्या के रूप में समझा जाता है।

4.डिस्फैजिया: निगलने में कठिनाई एक सामान्य लक्षण है, जिसमें भोजन गले या छाती में फंसा हुआ महसूस होता है।

5.क्रोनिक खांसी: बिना कारण खांसी के दौरे GERD का संकेत हो सकते हैं, खासकर जब अन्य लक्षणों के साथ होते हैं।

6.आवाज का भारीपन या गले में खराश: लगातार गले की समस्याएं, जैसे आवाज का भारीपन और खराश, GERD का संकेत हो सकती हैं।

7.मतली या उल्टी: बिना स्पष्ट कारण के मतली महसूस करना GERD से जुड़ा हो सकता है।

चेतावनी संकेत

जबकि GERD के सामान्य लक्षण असुविधाजनक होते हैं, कुछ चेतावनी संकेत तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता होती है:

1.बार-बार हार्टबर्न: सप्ताह में दो बार से अधिक हार्टबर्न होना एक लाल झंडी है।

2.गंभीर छाती में दर्द: तीव्र छाती का दर्द, जो कभी-कभी दिल के दौरे जैसा लगता है, को तत्काल चिकित्सा मूल्यांकन की आवश्यकता होती है।

3.बिना कारण वजन घटना: बिना प्रयास के महत्वपूर्ण वजन घटना एक गंभीर अंतर्निहित स्थिति का संकेत हो सकती है।

4.लगातार उल्टी: निरंतर उल्टी के एपिसोड, विशेष रूप से अगर वे शांत नहीं होते हैं, को तुरंत संबोधित किया जाना चाहिए।

5.काले या खून वाले मल: यह आंतरिक रक्तस्राव का संकेत हो सकता है और तत्काल चिकित्सा हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है।

6.सांस लेने में कठिनाई: जब एसिड वायुमार्ग में प्रवेश करता है तो घरघराहट और सांस की कमी हो सकती है।

7.दंत क्षरण: पेट का एसिड दांतों को प्रभावित करता है जिससे ध्यान देने योग्य दंत समस्याएं हो सकती हैं।

कब डॉक्टर को दिखाना चाहिए

अगर आप ऊपर बताए गए चेतावनी संकेतों में से कोई भी महसूस करते हैं या सामान्य GERD लक्षणों के बावजूद ओवर-द-काउंटर उपचार काम नहीं करते, तो डॉक्टर से मिलना महत्वपूर्ण है। जल्दी निदान और उपचार से इसोफेगाइटिस, स्ट्रिक्चर्स या यहां तक कि इसोफेजियल कैंसर जैसी जटिलताओं को रोका जा सकता है। बीकानेर के कोठारी अस्पताल में डॉ. निखिल गांधी जैसे गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट से परामर्श करना GERD को प्रबंधित और दूर करने के लिए आवश्यक व्यापक देखभाल प्रदान कर सकता है।

निदान और उपचार विकल्प

GERD का निदान आमतौर पर लक्षण समीक्षा, चिकित्सा इतिहास और एंडोस्कोपी, पीएच मॉनिटरिंग और इसोफेजियल मैनोमेट्री जैसी नैदानिक परीक्षणों के संयोजन से होता है। उपचार विकल्पों में शामिल हैं:

वनशैली में बदलाव: स्वस्थ आहार अपनाना, वजन कम करना, धूम्रपान छोड़ना और ट्रिगर खाद्य पदार्थों से बचना लक्षणों को काफी हद तक कम कर सकता है।

दवाएं: एंटासिड्स, H2 ब्लॉकर्स और प्रोटॉन पंप इनहिबिटर्स (PPIs) आमतौर पर पेट के एसिड को कम करने और इसोफेगस को ठीक करने के लिए निर्धारित की जाती हैं।

सर्जिकल विकल्प: गंभीर मामलों में, फंडोप्लिकेशन या LINX डिवाइस इम्प्लांटेशन जैसी प्रक्रियाएं LES को मजबूत करने के लिए अनुशंसित की जा सकती हैं।

GERD को रोकना

GERD को रोकने के लिए स्थायी जीवनशैली में बदलाव करना आवश्यक है:

हल्का भोजन खाएं: भारी भोजन पेट के दबाव को बढ़ा सकते हैं, जिससे रिफ्लक्स हो सकता है।

ट्रिगर खाद्य पदार्थों से बचें: मसालेदार, वसायुक्त और अम्लीय खाद्य पदार्थों के साथ-साथ कैफीन और शराब से बचें।

A medical illustration of the digestive system highlights the stomach with a red area indicating discomfort and an arrow showing acid moving up the esophagus. Text at the bottom reads "Acid Reflux." The background comprises X-ray-like visuals of ribcages and other bones.

स्वस्थ वजन बनाए रखें: अतिरिक्त वजन पेट के दबाव को बढ़ाता है, जिससे पेट की सामग्री इसोफेगस में प्रवेश करती है।

सोते समय तकिया लगाएं: इससे नींद के दौरान एसिड को इसोफेगस में वापस जाने से रोका जा सकता है।

खाने के बाद लेटने से बचें: खाने के बाद कम से कम 2-3 घंटे तक लेटने से बचें।

निष्कर्ष:

GERD के संकेतों को पहचानना और समय पर उपचार लेना आपके पाचन स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। यदि आप लगातार लक्षण महसूस करते हैं या कोई चेतावनी संकेत हैं, तो बीकानेर के कोठारी अस्पताल में डॉ. निखिल गांधी जैसे गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट से परामर्श करने में संकोच न करें। उनकी विशेषज्ञता और सहानुभूतिपूर्ण देखभाल GERD को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकती है, जिससे एक स्वस्थ, खुशहाल जीवन सुनिश्चित होता है।

बेहतर पाचन स्वास्थ्य की दिशा में पहला कदम उठाएं। आज ही डॉ. निखिल गांधी के साथ विशेषज्ञ गैस्ट्रोएंटेरोलॉजी देखभाल के लिए अपॉइंटमेंट बुक करें। www.drnikhilgandhi.com पर जाएं या 7597741640 पर कॉल करें और अपनी अपॉइंटमेंट बुक करें।

Understanding Liver Cirrhosis: Insights from a Leading Gastro and Liver Specialist in Bikaner

Liver cirrhosis is a chronic and progressive liver condition characterised by irreversible scarring of the liver tissue. This serious condition can significantly impact a person’s quality of life and can lead to life-threatening complications if not managed effectively. Early diagnosis and treatment are crucial for managing the disease and preventing further damage. Dr. Nikhil Gandhi, a renowned Gastro and Liver Specialist in Bikaner, provides comprehensive care for liver diseases at Kothari Hospital Bikaner, offering hope and healing to many patients.

What is Liver Cirrhosis?

Liver cirrhosis occurs when healthy liver tissue is gradually replaced by scar tissue, hindering the liver’s ability to function properly. This scarring interferes with the flow of blood through the liver, affecting its capacity to process nutrients, hormones, drugs, and toxins, and to produce proteins that are essential for blood clotting and other functions. The liver’s ability to regenerate itself becomes impaired as the scarring progresses, leading to severe complications over time.

Causes of Liver Cirrhosis

There are several factors and conditions that can lead to liver cirrhosis, including:

  • Chronic Alcohol Use

    Prolonged and excessive alcohol consumption is one of the most common causes of liver cirrhosis. Alcohol is toxic to liver cells, and chronic use can lead to inflammation and scarring.
  • Hepatitis B and C Infections

    These viral infections cause chronic liver inflammation, which can progress to cirrhosis if not treated effectively.
  • Non-alcoholic Fatty Liver Disease (NAFLD)

    This condition is characterised by the accumulation of fat in the liver, not associated with alcohol use. It is often linked to obesity, diabetes, and metabolic syndrome.
  • Other Causes

    Includes autoimmune hepatitis (where the body’s immune system attacks liver cells), genetic conditions like haemochromatosis (excess iron accumulation), and bile duct diseases such as primary biliary cholangitis and primary sclerosing cholangitis.

Symptoms of Liver Cirrhosis

The symptoms of liver cirrhosis can vary depending on the stage of the disease:

  • Early-Stage Symptoms

    In the early stages, symptoms may be mild and non-specific, making it difficult to diagnose. These can include fatigue, weakness, loss of appetite, nausea, and unexplained weight loss.

  • Advanced-Stage Symptoms

    As the disease progresses, more severe symptoms can develop, such as jaundice (yellowing of the skin and eyes), severe abdominal pain, swelling in the legs (oedema) and abdomen (ascites), spider-like blood vessels on the skin, and confusion or difficulty thinking clearly (hepatic encephalopathy).

Recognising these symptoms early and seeking medical attention can significantly improve outcomes and quality of life.

Diagnosis of Liver Cirrhosis

Diagnosing liver cirrhosis typically involves a combination of medical history, physical examination, and diagnostic tests:

  • Medical History and Physical Examination

    Your doctor will review your medical history and perform a physical examination to check for signs of liver damage and related complications.

  • Diagnostic Tests and Imaging

    Blood tests can help assess liver function and detect markers of liver damage. Imaging tests such as ultrasound, CT scans, and MRI can provide detailed images of the liver to identify scarring and structural changes.

  • Liver Biopsy

    This is considered the gold standard for diagnosing liver cirrhosis. A small sample of liver tissue is taken and examined under a microscope to assess the extent of scarring and damage.

A group of doctors, including Dr. Nikhil Gandhi, performing a surgical procedure in an operating room.

Treatment Options for Liver Cirrhosis

The goal of treatment for liver cirrhosis is to slow the progression of the disease, manage symptoms, and prevent complications. Treatment options include:

  • Lifestyle Changes

    Making healthy lifestyle choices is crucial in managing liver cirrhosis. This includes avoiding alcohol, maintaining a balanced diet rich in fruits, vegetables, and whole grains, and engaging in regular physical activity to promote overall health.
  • Medications

     Depending on the underlying cause of cirrhosis and the symptoms, various medications may be prescribed. These can include antiviral drugs for hepatitis infections, medications to reduce liver inflammation, and diuretics to manage fluid retention.
  • Advanced Treatments

     For severe cases of liver cirrhosis, advanced treatments such as liver transplantation may be necessary. Kothari Hospital Bikaner offers state-of-the-art facilities and expert care for liver transplant procedures.

Preventive Measures

Preventing liver cirrhosis involves addressing the risk factors that contribute to the disease. Some preventive measures include:

  • Reducing Alcohol Consumption

    Limiting or avoiding alcohol intake can significantly lower the risk of developing liver cirrhosis. It is important to follow recommended guidelines for alcohol consumption and seek help if needed.

  • Vaccination

    Getting vaccinated against hepatitis B and C can help prevent these viral infections, which are major causes of liver cirrhosis.

  • Healthy Diet and Weight Management

    Maintaining a healthy weight and following a balanced diet can help prevent non-alcoholic fatty liver disease (NAFLD) and other liver conditions. Avoiding high-fat and high-sugar foods, and incorporating plenty of fibre and antioxidants can promote liver health.

  • Regular Check-Ups

    Regular check-ups with a Gastro and Liver Specialist in Bikaner, like Dr. Nikhil Gandhi, can help monitor liver health and detect any issues early on. Routine blood tests and imaging studies can provide valuable information about liver function and structure.

Living with Liver Cirrhosis

Living with liver cirrhosis requires ongoing management and support. Here are some tips to help manage the condition and improve quality of life:

  • Symptom Management

    Taking prescribed medications as directed and following your doctor’s recommendations can help control symptoms and prevent complications. It is important to attend all scheduled appointments and communicate any changes in symptoms to your healthcare provider.
  • Dietary Adjustments

    Making dietary adjustments can help manage symptoms and support liver function. This can include reducing salt intake to prevent fluid retention, eating smaller and more frequent meals, and avoiding raw or undercooked seafood.
  • Physical Activity

    Engaging in regular physical activity can help maintain overall health and well-being. Low-impact exercises such as walking, swimming, and yoga can be beneficial for people with liver cirrhosis.
  • Emotional Support

    Living with a chronic condition like liver cirrhosis can be challenging. Seeking emotional support from friends, family, or support groups can provide valuable encouragement and understanding. Kothari Hospital Bikaner offers resources such as nutritional advice and psychological support to help patients cope with the emotional and physical aspects of the disease.
Dr. Nikhil Gandhi Kothari Hospital Bikaner

Conclusion

Liver cirrhosis is a serious condition that requires careful management and ongoing care. Early diagnosis and proactive management are key to controlling the disease and preventing complications. Dr. Nikhil Gandhi, a leading Gastro and Liver Specialist in Bikaner, offers expert care and advanced treatment options at Kothari Hospital Bikaner. By following preventive measures and seeking timely medical attention, patients can improve their quality of life and achieve better health outcomes.

If you or a loved one is experiencing symptoms of liver cirrhosis or have concerns about liver health, do not delay in seeking professional medical advice. Contact Dr. Nikhil Gandhi for expert consultation and comprehensive care.

📞 80056-87684
🌐 drnikhilgandhi.com
🗺️ Transport Gali, GS Road, opp. Laxmi Building, Bikaner

भीषण गर्मी में पाचन तंत्र और लीवर की देखभाल कैसे करें: डॉ. निखिल गांधी के सुझाव

Man drinking water from a traditional bottle in Rajasthan to stay hydrated during the hot summer

भीषण गर्मी का प्रभाव पाचन तंत्र और लीवर पर गंभीर रूप से पड़ सकता है। बच्चों, युवाओं और बुजुर्गों के लिए गर्मी के दौरान पाचन तंत्र और लीवर की देखभाल रखना बहुत जरुरी है।
पेट, आंत और पेंक्रियाज़ विशेषज्ञ डॉ. निखिल गांधी, DM गैस्ट्रोएंट्रोलॉज़ी (गोल्ड मेडेलिस्ट) के सुझावों के साथ, आप अपने और अपने परिवार की सेहत को बेहतर बनाए रख सकते हैं।

1. हाइड्रेशन बनाए रखें

गर्मी के मौसम में शरीर में पानी की कमी को रोकना आवश्यक है, क्योंकि पानी की कमी से पाचन तंत्र और लीवर पर अतिरिक्त दबाव पड़ सकता है। बच्चों के लिए: तरबूज, खीरा और नारियल पानी जैसे फलों और सब्जियों का सेवन करें जो जल की मात्रा में उच्च हों। युवाओं और कामकाजी लोगों के लिए: नींबू पानी, छाछ, और ग्रीन टी का सेवन करें ताकि शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की भरपाई हो सके। बुजुर्गों के लिए: आम का पना और बेल का शरबत पीएं जो शरीर को ठंडक प्रदान करते हैं और जल की कमी को पूरा करते हैं।

2. सही आहार का चुनाव

गर्मी के मौसम में हल्का और पचने में आसान भोजन करना चाहिए। स्थानीय खाद्य पदार्थों का सेवन भी मददगार हो सकता है। हल्का और पचने में आसान भोजन और स्थानीय खानपान: नींबू-पानी, मठ्ठा, लस्सी। यह खाद्य पदार्थ पोषक तत्वों से भरपूर हैं और शरीर को ठंडक प्रदान करते हैं।

3. नियमित व्यायाम करें

भीषण गर्मी में भी नियमित रूप से हल्का व्यायाम करना पाचन तंत्र और लीवर के लिए फायदेमंद हो सकता है।
  • सुबह या शाम का समय चुनें: दिन की गर्मी से बचने के लिए सुबह या शाम को व्यायाम करें।
  • योग और प्राणायाम: पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए योग और प्राणायाम करें।
  • बच्चों के लिए: हल्का खेलकूद जैसे बैडमिंटन, साइक्लिंग आदि करें।
  • युवाओं और बुजुर्गों के लिए: पैदल चलना, तैराकी और हल्की स्ट्रेचिंग करें।

4. सूरज से बचाव

भीषण गर्मी में सीधे धूप से बचना आवश्यक है।
  • सिर ढककर रखें: टोपी या कपड़ा पहनें ताकि सिर को धूप से बचाया जा सके।
  • सनस्क्रीन का उपयोग: बाहर जाने से पहले सनस्क्रीन का उपयोग करें।
  • ढीले और हल्के कपड़े पहनें: सूती कपड़े पहनें जो पसीने को सोखने में मदद करते हैं और शरीर को ठंडक देते हैं।
Women and children using umbrellas and wearing caps to protect themselves from the sun in Rajasthan during the summer

5. अल्कोहल और कैफीन का सेवन कम करें

अल्कोहल और कैफीन का अधिक सेवन लीवर और पाचन तंत्र पर अतिरिक्त दबाव डाल सकता है।
  • निम्न सेवन: अल्कोहल और कैफीन का सेवन सीमित करें।
  • विकल्प चुनें: हर्बल चाय और ठंडाई जैसे पेय पदार्थ चुनें जो शरीर को ठंडक प्रदान करते हैं।

6. लक्षणों पर ध्यान दें

गर्मी के मौसम में पाचन तंत्र और लीवर से संबंधित किसी भी असामान्य लक्षण पर ध्यान देना आवश्यक है।
  • लक्षणों की पहचान: पेट दर्द, उल्टी, दस्त, या थकान जैसे लक्षणों को नजरअंदाज न करें।
  • डॉक्टर से संपर्क करें: किसी भी गंभीर लक्षण के मामले में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

7. बच्चों, युवाओं और बुजुर्गों के लिए विशेष सुझाव

  • बच्चों के लिए: नियमित रूप से पानी पिलाएं और हल्का भोजन दें। बच्चों को धूप में खेलने से बचाएं।
  • युवाओं के लिए: हाइड्रेशन पर ध्यान दें और भारी भोजन से बचें। बाहर जाते समय टोपी और सनस्क्रीन का उपयोग करें।
  • बुजुर्गों के लिए: समय पर खाना खाएं, आराम करें और हाइड्रेशन बनाए रखें। बाहर कम से कम समय बिताएं।

8. बीकानेर का विशेष संदर्भ

  • बीकानेर में मिलने वाले ‘मटके का पानी’ भी एक उत्तम विकल्प है जो प्राकृतिक रूप से ठंडा और स्वच्छ होता है।
  • कोठारी हॉस्पिटल में डॉ. निखिल गांधी की सेवाएं आसानी से उपलब्ध हैं।
Dr. Nikhil Gandhi Kothari Hospital Bikaner

गर्मी के दौरान पाचन तंत्र और लीवर की देखभाल करना महत्वपूर्ण है। सही आहार, हाइड्रेशन, और नियमित व्यायाम से आप स्वस्थ रह सकते हैं। किसी भी समस्या के लिए समय पर चिकित्सा सहायता प्राप्त करें।

अगर आपको पाचन तंत्र या लीवर से संबंधित कोई भी समस्या हो, तो डॉ. निखिल गांधी से परामर्श करें।
📞 संपर्क करें: 80056-87684
🌐 वेबसाइट: drnikhilgandhi.com
🗺️ पता: ट्रांसपोर्ट गली, जीएस रोड, लक्ष्मी बिल्डिंग के सामने, बीकानेर

Introducing Dr. Nikhil Gandhi: Expert in Gastroenterology

Introducing Dr. Nikhil Gandhi: Expert in Gastroenterology

Dr. Nikhil Gandhi of Bikaner receives the Torrent Young Scholar Award in 2022 for gastroenterology.

Welcome to our clinic’s blog! Today, we’re happy to introduce Dr. Nikhil Gandhi, a distinguished gastroenterologist who has dedicated his career to providing exceptional care in the field of digestive health. With a comprehensive educational background, extensive experience, and a commitment to employing the latest medical advancements, Dr. Gandhi is a trusted expert committed to enhancing patient outcomes.

Educational Journey

Dr. Nikhil Gandhi’s path in medicine began at J.L.N Medical College and Hospital, Ajmer, where he completed his M.B.B.S with top honors. He pursued further specialization in Internal Medicine at Govt. Medical College and Hospital, Kota, and advanced his expertise in Medical Gastroenterology at Gauhati Medical College and Hospital, Guwahati. His educational journey is marked by excellence and a deep commitment to understanding and treating complex digestive diseases.

Expert in Gastroenterology

Throughout his career, Dr. Gandhi has held positions that have honed his skills and deepened his understanding of gastroenterology. As a Senior Resident at Gauhati Medical College and Hospital, he led numerous procedures and treatments, contributing significantly to the field. His practice encompasses a wide range of procedures, including diagnostic endoscopies, colonoscopies, and advanced therapeutic techniques.

Advanced Clinical Skills

Dr. Gandhi is proficient in a broad spectrum of gastroenterological procedures, ensuring comprehensive care:

  • Endoscopy and Colonoscopy: Crucial for diagnosing gastrointestinal diseases.
  • ERCP: Specialized for addressing biliary and pancreatic issues.
  • Liver Biopsy and FibroScan: Vital for detailed assessments of liver health.
  • Polypectomy, Variceal Banding, and more: Essential for managing various gastrointestinal conditions.

These competencies underscore Dr. Gandhi’s extensive expertise in digestive health care.

Focus Areas

Dr. Gandhi’s interests lie in addressing portal hypertension, interventional endoscopy, autoimmune liver diseases, and chronic pancreatitis. His passion for these areas drives his ongoing research and continuous learning, reflecting his dedication to improving patient care and outcomes.

Recognitions and Contributions

Dr. Gandhi’s excellence in gastroenterology has been acknowledged through various awards, including the prestigious Gold Medal in Gastroenterology. His commitment to medical research is evident from his numerous publications in esteemed journals, contributing valuable knowledge to the field of digestive health.

Dr. Nikhil Gandhi’s arrival at our clinic brings a wealth of knowledge, expertise, and compassion to our team. His holistic approach to patient care, combined with his technical proficiency, makes him a pivotal addition to our practice. We are excited to have Dr. Gandhi on board, offering our patients unparalleled care in gastroenterology.

Join us in welcoming Dr. Gandhi to our community – together, we step forward towards a healthier future. For more information or to schedule an appointment with Dr. Gandhi.